ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है – Operating System in Hindi

एक Operating System primary software होते है जो कंप्यूटर पर सभी हार्डवेयर और अन्य सॉफ़्टवेयर को manage करता है। ऑपरेटिंग सिस्टम, जिसे “OS” भी कहा जाता है, कंप्यूटर के हार्डवेयर के साथ interface करता है और device की service provide करता है जिससे हम उसका उपयोग ठीक तरह से कर सकते हैं।

 

एक ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) program है कि, starting में कंप्यूटर में bootprogram लोड होने के बाद, कंप्यूटर में अन्य सभी प्रोग्राम manage करता है। जो दूसरे programes होते है उन्हें application या application program कहा जाता है।

एक application program दूसरे defined application program Interface (API) के माध्यम से device की services को पूरा करने के लिए अनुरोध करके ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग करते हैं।

According to Wikipedia :

एक ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) सिस्टम सॉफ़्टवेयर है जो कंप्यूटर के हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर resources का management करता है और कंप्यूटर प्रोग्राम के लिए सामान्य सेवाएं प्रदान करता है।

Time sharing operating systems सिस्टम के कुशल उपयोग के लिए कार्यों को schedule करते हैं और processor time, mass storage, printing, and other resources के लागत आवंटन के लिए लेखांकन सॉफ्टवेयर भी शामिल कर सकते हैं।

Operating System क्या काम करता है?

एक ऑपरेटिंग सिस्टम एक Device पर software का core set (समूह) होता है जो सबकुछ एक साथ रखता / करता है। ऑपरेटिंग सिस्टम डिवाइस के हार्डवेयर के साथ communicate करते हैं। वे आपके keyboard और mouse से Wi-Fi radio, storage devices, and display तक सब कुछ manage करते हैं। दूसरे शब्दों में कहा जाये तो, एक ऑपरेटिंग सिस्टम input और output devices को संभालते है।

ऑपरेटिंग सिस्टम hardware creators द्वारा उनके डिवाइस के साथ communicate करने के लिए device drivers का उपयोग करते हैं।

Operating system में कई तरह के software शामिल होते हैं जैसे common system services, libraries, and application programming interfaces (APIs) जो developers के ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलने वाले program को लिखने के लिए उपयोग कर सकते हैं।

Operating System in Hindi

 

ऑपरेटिंग सिस्टम hardware drivers का उपयोग करके दोनों के बीच interface के रूप में आपके जरिये चलाए जाने वाले application और hardware के बीच task को पूरा करने में help करता है। उदाहरण के लिए, जब आप कोई application से कुछ print कर रहे होते है, तो उस कार्य को operating system नियंत्रित करता है। ऑपरेटिंग सिस्टम printer के driver को सही सिग्नल भेजने के लिए printer को instructions भेजता है। printing करने वाले application को इस बात की परवाह नहीं होती कि आपके पास कौन सा printer है। यह केवल ये समझता है कि ये काम कैसे करता है और इसे क्या काम करना है।

OS चल रही कई programs के बीच hardware resources को allocated करने और multi-tasking को भी संभालता है। ऑपरेटिंग सिस्टम control करता है कि कौन सी प्रक्रियाएं चलती हैं, और यह अलग-अलग CPUs के बीच allocating करती है यदि आपके पास multiple CPUs या core वाले कंप्यूटर हैं, जो multiple process को parallel (समानांतर) में चलाते हैं। यह चल रहे applications के बीच Memory allocating करने के लिए, system में internet memory का management भी करता है।

ऑपरेटिंग सिस्टम show चलाने वाले software का एक बड़ा सा piece है। जैसे हमारे smartphone की बैटरी कम हों जाती है तो हमे charger की जरूरत पड़ती है ताकि हम उसे charge करके फिर से use कर सके। वैसे ही यह बाकी हर एक चीज़ का charger है।

For example, operating system इन प्रोग्रामों तक पहुंचने वाली files और other resources को भी manage या नियंत्रित करता है।

Operating System सिर्फ PC के लिए ही नहीं है !

जब हम “computer” ऑपरेटिंग सिस्टम चलाते हैं, तो हमारा मतलब केवल traditional desktop PC और laptop ही नहीं है। आपका smartphone भी एक कंप्यूटर है। जैसे tablets, smart TVs, game consoles, smart watches, and Wi-Fi routers हैं। एक amazon echo या Google home भी एक computing device है जो एक operating system पर चलते है।

Operating System in Hindi

 

Popular desktop के operating system में Microsoft Windows, Apple macOS, Google का Chrome OS, and Linux शामिल है। इसके साथ साथ smartphone Operating system में Apple का iOS और Google का Android हैं।

other devices, जैसे Wifi Router को “embedded operating systems” चला सकते हैं। ये specialized ऑपरेटिंग सिस्टम हैं जो typical ऑपरेटिंग सिस्टम की तुलना में कम काम करते हैं। Normally ये एक ही कार्य करने के लिए डिज़ाइन किये गए है- जैसे Wi-Fi router, providing GPS navigation, or operating an ATM.

Kernel in Operating System

Generally, “kernel” आपके ऑपरेटिंग सिस्टम के center में एक core computer program है। यह single program आपके ऑपरेटिंग सिस्टम के शुरू होने पर लोड की गई पहली चीज़ों में से एक होता है। यह memory allocate करता है, और software के कार्यों को आपके कंप्यूटर के CPU के लिए instructions में convert करता है, और hardware devices के through like input और output से निपटता है।

इसको आसान भाषा में समझने के लिए इस पर नज़र डालते है। For exampe – Linux सिर्फ एक kernel है। हालांकि, linux को अभी भी एक operating system कहा जाता है। और Android को भी एक operating system कहा जाता है। और यह Linux kernel के आसपास बनाया गया है। Ubuntu जैसे linux को linux kernel लेते हैं और इसके आसपास additional softwares को जोड़ते हैं। उन्हें भी operating system के रूप में जाना जाता है।

Difference Between Firmware and OS ?

बहुत से devices केवल “firmware” पर चलते हैं। ये भी एक प्रकार का low-level software है जो आम तौर पर सीधे hardware devices की memory में प्रोग्राम किया जाता है। firmware आमतौर पर केवल basic कार्य करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। Firmware, सॉफ़्टवेयर का एक छोटा सा part होता है।

Operating System in Hindi

 

firmware और एक operating system के बीच difference करना थोड़ा सा मुश्किल हो सकता है क्योंकि ये थोड़ा समझ से परे है। For example, iOS नामक apple के iPhone और iPad के लिए जो ऑपरेटिंग सिस्टम use किया जाता है उसे अक्सर “firmware” कहा जाता है। इतना ही नहीं PlayStation 4 की ऑपरेटिंग सिस्टम को officially तौर पर भी firmware कहा जाता है।

ये operating system हैं जो कई hardware devices के साथ interface करते हैं, Programs को सेवाएं प्रदान करते हैं, और application के बीच संसाधन आवंटित करते हैं। हालांकि, एक TV रिमोट कंट्रोल पर चलने वाला एक बहुत ही basic firmware है लेकिन इसे सही मात्रा में, ऑपरेटिंग सिस्टम नहीं कहा जाता है।

Conclusion,

एक व्यक्ति को यह समझने की कोई जरूरत नहीं होती है कि एक operating system क्या होता है। हाँ आपको यह जरूर पता होना चाहिए कि आपको कौन सा Operating system use करना चाहिए और किस के बारे में पता होना चाहिए और आपके डिवाइस के साथ कौन सा software or hardware matched होते है।

कम लागत में बिज़नस शुरू करने के 50 आइडिया – Business Ideas In Hindi

लेकिन उम्मीद करता हूँ आपको operating system के बारे में basic Knowledge तो हो गयी होगी। इसके अलावा भी Operating systems के बहुत से types होते  है जिनके बारे में हम आने वाले दिनों में बात करेंगे।

Paytm (पेटीएम) क्या है – What is Paytm in Hindi?

तब तक के लिए आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के group में एक virus को तरह फैला दो। और Operating system से related कोई सवाल है तो उसे comment box के जरिये drop करदे।

About the Author: Suneet Srivastava

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *